शीतपित्त भंजन रस के फायदे और नुकसान

QuestionsCategory: Questionsशीतपित्त भंजन रस के फायदे और नुकसान
Quiz Staff asked 4 weeks ago

शीतपित्त भंजन रस के फायदे और नुकसान  शीतपित्त की आयुर्वेदिक दवा शीतपित्त में क्या खाना चाहिए शीत पित्ती की दवा पतंजलि Shitpitta Bhanjan Ras Benefits Dosage Side Effects

1 Answers
Sehat Ka Raj Staff answered 4 weeks ago

इसका नाम है शीतपित्त इसको हम इंग्लिश में अर्टिक एरिया भी कहते हैं यानी शीतपित्त में होता क्या है इसमें हमें अचानक खुजली होने लगती है एक चुबं और बहुत ज्यादा जलन भी होती है अचानक एकदम खुजली होने लगती है और हमें समझ में नहीं आता कि खुजली हो क्यों रही है पूरे शरीर में खुजली होने लग जाती है कई बार तो केवल हाथों में ही खुजली होती है तो इसको शीतपित्त कहते हैं कुछ लोगों को ये एक दो बार ही होता है फिर अपने आप ही सही हो जाता है और कुछ लोगों को तो ये बार-बार होता है साधारण भाषा में ही पित्ती उछलना भी कहा जाता है।
अब आप ये जरूर सोच रहे होंगे की ये अर्टिक एरिया यानी शीतपित्त होता क्यों है तो यह एक प्रकार का चर्म रोग है जो एलर्जी की वजह से फैलता है एलर्जी आपको किसी से भी हो सकती है किसी को कोई फ़ूड ऐसा होता है जो जिनके शरीर को सूट नहीं करता जिसकी वजह से एलर्जी हो जाती है कई बार ऐसी दवाइयां खा लेते हैं जिसकी वजह से एलर्जी हो जाती है कई बार ठंडा गरम एक साथ खा लेने से भी हो जाता है .
फिर कोई स्ट्रेस या फिर कोई चिंतायानि डिप्रेशन के कारण भी यह अर्टिक एरिया इस प्रकार की एलर्जी हो जाती है या इसके अलावा आपने कोई नई चीज यूज करें जैसे साबुन कपड़े या फिर कुछ नया खाया उससे भी आपको ये हो सकती है ये बताना मुश्किल है कि आपको ये एलर्जी किस से हो रही है यह आपको समझना पड़ेगा की किसे एलर्जी या खुजली हो रही है हालांकि डॉक्टर इसे सही तरीके से बता नहीं पाते हमको खुद ही समझना पड़ता है कि हमने ऐसा क्या खाया क्या पहनना क्या ऐसा यूज़ किया जिस कारण हमें ये एलर्जी हो रही है तो इस मेडिसन का सबसे बड़ा फायदा जो है ये शीतपित्त यानी अर्टिक एरिया के लिए एक अच्छी मेडिसन है.
इसके अलावा इसके और बहुत सारे फायदे हैं एग्जिमा में भी यह काफी यूज़फुल मेडिसन है इसके अलावा डाइजेशन से सम्बन्धित प्रॉब्लम होती है या फिर यूरिन से संबंधित है कोई बीमारी है उसमें भी काफी फायदेमंद है और साथी ही ये आपके लीवर के लिए भी काफी अच्छी है या फिर आपको स्वेलिंग होती है आपकी बॉडी में सूजन आ जाती है उसमें भी काफी फायदेमंद है । तो देखा आपने इस शीतपित्त भंजन रसके कितने सारे फायदे हैं ।

कैसे बनाया गया है

इसे बेहतरीन जड़ी बूटियों से मिलाकर बनाया गया है। जैसे – शुद्ध पारत ,,शुद्ध गंधक, कशिश भस्म , ताम्र भस्म आदि जड़ी बूटियां मिलाकर इसे बनाया गया है। जिस कारण ये आपके लिए इतना फायदेमंद है।

इसे कैसे लेना है

अब बात करते हैं कि आपको इसे कैसे लेना है आप इसे 125 मिलीग्राम से लेकर 250 मिलीग्राम के बीच में लेना होता है इसे आप दिन में एक बार ले सकते हैं और अगर आपको एक बार से आराम नहीं मिलता है तो आप भी दो बार ले सकते हैं आप इसे खाना खाने के बाद ले सकते हैं इसे गुड़ के साथ, शहद के साथ ,या हल्के गुनगुने पानी के साथ भी ले सकते हैं । इसे मेल या फीमेल कोई भी ले सकता है अगर बात करें बच्चों की तो बच्चों को इसे नहीं लेना है या फिर बच्चों को देने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें क्योंकि यह बच्चों की उम्र पर डिपेंड करता है ।साथ ही जो महिला प्रेग्नेंट है उसे भी इसे लेने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लेनी चाहिए क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान है कोई अन्य मेडिसन लेना सही नहीं होता है

 side effect 

अब बात करते हैं इसके side effect की तो इसका कोई भी side effect देखने को नहीं मिलता लेकिन फिर भी इसे लेने के बाद अगर आपको हेल्थ में कुछ इशु लगता है तो आप ही से लेना बंद भी कर सकते हैं या ज्यादा जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं

सावधानियां

आपको दूध से बने पदार्थों का सेवन नहीं करना है ,मछली नहीं खानी है, नॉनवेज आइटम नहीं खाने हैं, गन्ने का रस नहीं पीना है, मिठाई नहीं खानी है, इस तरह की वस्तुओं का सेवन नहीं करना है इन बातों का आपको विशेष ध्यान रखना है अगर शीतपित्त भंजन रस ले रहे हैं जाते -जाते एक बात कहना चाहूंगा कि आप योगा करते हैं तो कौन सी भी बीमारी नहीं होगी।तो आपको योगा करते रहना चाहिए। तो ये थी शीतपित्त भंजन रस के बारे मै पूर्ण जानकारी ।